Zindagi yun he jazbat se nhi chalti by Ajay Prasad

 जिंदगी यूँ ही जज्बात से नहीं चलती

Zindagi yun he jazbat se nhi chalti by Ajay Prasad


जिंदगी यूँ ही जज्बात से नहीं चलती

फक़त उम्दे खयालात से नहीं चलती ।

रुखसत होता हूँ रोज घर से रोज़ी को

गृहस्थी चंदे या खैरात से नहीं चलती ।

मुसलसल जंग है जरूरी जरूरतों से

हसीं ख्वाबो एह्ससात से नहीं चलती ।

रज़ामंदी रूह की लाज़मी है मुहब्बत में

बस जिस्मों के मुलाकात से नहीं चलती ।

कब्र की अहमियत भी समझो गाफिलों

दुनिया सिर्फ़ आबे हयात से नहीं चलती ।

-अजय प्रसाद

Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url