kavita Dhairya na khona tum. samunder singh

   कविता - धैर्य न खोना तुम

kavita  Dhairya  na khona tum. samunder singh


आँसू से मुँह न  धोना तुम।
              जीवन में धैर्य न खोना तुम।
हर दिन सपने उन्नति के,
               दिल की मिट्टी में बोना तुम।
हर पल है अनमोल यहाँ ,
                इसको व्यर्थ न खोना तुम।
कठिनाई आएं राहों में,
                 पर विचलित न होना तुम।
कुछ दुख के बादल छाए हैं ,
                  इन्हें देख  न रोना तुम।
आशाओं की लड़ियों में ,
                   मायूसी न पिरोना तुम ।
असफलताओं का बोझा ,
                  जिंदगी भर न ढोना तुम।
जब तक न मिले मंजिल ,
              "पंवार " चैन से न सोना तुम।

                                 कवि - समुन्द्र सिंह पंवार
                                  रोहतक , हरियाणा

Next Post Previous Post
1 Comments
  • Unknown
    Unknown 6/01/2021 11:27:00 PM

    बहुत ही बढ़िया रचना जी ।

Add Comment
comment url