Mere Dil Ne Uff Tak Na Ki


Mere Dil Ne Uff Tak Na Ki

मेरे दिल ने उफ्फ तक ना की

 
Mere Dil Ne Uff Tak Na Ki


खाई थी गहरी चोट
घाव भी था गहरा
फिर भी है मैंने कुरेदा
घाव बढ़ा, दर्द हुआ

किया राग फिर से
मोह ने बांधी पट्टी
हुआ मैं नेत्र विहीन
खोया मैं दिवास्वप्न में

फिर आया काल चक्र
खुली मोह की पट्टी
हुआ अंत: रुदन फिर से
हृदय ने सहा आघात,
दोष था बेहोश मन का
चुप रहा, देखता रहा खाली,

दिल ने उफ्फ तक ना की
रोया, हुआ बेचैन बस खाली,
कोने में पड़ा धड़कता रहा
घाव को चुपचाप भरता गया
हाँ! मेरे दिल ने उफ्फ तक ना की |


Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url