युवा पीढ़ी की नैतिकता और सोशल मीडिया का उपयोग/yuva peedhi ki naitikta aur social media

 युवा पीढ़ी की नैतिकता और सोशल मीडिया का उपयोग

हमारे दिलो दिमाग पर घर करती सोशल नेटवर्किंग साइट्स ने लोगों को वास्तविक जीवन को भूलाकर आभासी जीवन में रहने को मजबूर कर दिया है। ये सच है कि सोशल साइट्स की आदत के कारण युवाओं में व्यक्तिगत संवाद की दिक्कत होती जा रही है, जिसकी वजह से वे आज सामाजिक रूप से प्रभावी संवाद नहीं कर पाते हैं। यही कारण है कि युवा वर्ग में हमारे महापुरुषों के नैतिक आदर्श कम होते जा रहें है और युवा पीढ़ी में धैर्य की भारी कमी देखी जा सकती है। नैतिक दृष्टिकोण के गुणों में विश्वास, श्रद्धा, अच्छाई, सत्यता आदि शामिल हैं, जो इंटरनेट के दौर में गायब है।  

-सत्यवान 'सौरभ'

नैतिक दृष्टिकोण वे दृष्टिकोण हैं जो हमारे नैतिक विश्वासों पर आधारित होते हैं और हमारे सही या गलत की अवधारणा को व्यक्त कर सकते हैं। वे नैतिक सिद्धांतों से अधिक मजबूत हैं। चूंकि नैतिक मानक सभी के लिए समान नहीं होते हैं, वे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होते हैं। नैतिक दृष्टिकोण के गुणों में विश्वास, श्रद्धा, अच्छाई, सत्यता आदि शामिल हैं। नैतिक दृष्टिकोण का सकारात्मक निहितार्थ यह है कि ये दृष्टिकोण मजबूत भावनाओं के साथ जुड़े हुए हैं। इसलिए, सामाजिक बहिष्कार के डर के कारण सामान्य समाजों के बीच गलत व्यवहार को रोकता है। जैसे- बाल शोषण, अनाचार।

सोशल मीडिया  संचार, समुदाय-आधारित इनपुट, बातचीत, सामग्री-साझाकरण और सहयोग पर ध्यान केंद्रित करता है। लोग इसका उपयोग संपर्क में रहने और दोस्तों, परिवार और विभिन्न समुदायों के साथ बातचीत करने के लिए करते हैं। दुनिया की 58.4% आबादी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करती है। औसत दैनिक उपयोग 2 घंटे 27 मिनट है। सोशल मीडिया हमारे आधुनिक समाज के संचार और आत्म-अभिव्यक्ति के क्षेत्र में एक जरूरत बन गया है, लेकिन यह सभी प्रकार की चौंकाने वाली सामग्री के लिए एक प्रमुख केंद्र भी है - जिसमें पोर्न और कभी-कभी, बाल शोषण भी शामिल है। सोशल मीडिया पर ऐसा क्यों है?  ऐसा लगता है कि किसी भी साइट ने पूरी तरह से पर्याप्त मॉडरेशन टीम विकसित नहीं की है।

हमारे दिलो दिमाग पर घर करती सोशल नेटवर्किंग साइट्स ने लोगों को वास्तविक जीवन को भूलाकर आभासी जीवन में रहने को मजबूर कर दिया है। ये सच है कि सोशल साइट्स की आदत के कारण के युवाओं में व्यक्तिगत संवाद की दिक्कत होती जा रही है, जिसकी वजह से वे आज सामाजिक रूप से प्रभावी संवाद नहीं कर पाते हैं। यही कारण है कि युवा वर्ग में हमारे महापुरुषों के नैतिक आदर्श कम होते जा रहें है और युवा पीढ़ी में धैर्य की भारी कमी देखी जा सकती है।

सोशल मीडिया का उपयोग युवा पीढ़ी के नैतिक दृष्टिकोण को सकारात्मक रूप के लिए किया जा सकता है अब तक कई मुद्दे जो समाज द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हैं, कमजोर वर्गों को वंचित करना, जिनके पास अपने अधिकारों की आवाज नहीं थी अब सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, यूट्यूब आदि के माध्यम से समाज के प्रकाश में आ रहे हैं। युवा पीढ़ी जो इन मुद्दों को नहीं जानती उन्हें मुद्दों पर स्पष्टता आवाज़ मिलती है। जैसे- लेस्बियन, गे, बिसेक्सुअल, और ट्रांसजेंडर अधिकार अभियान, #मेटू - ट्विटर पर महिलाओं के यौन शोषण और यौन उत्पीड़न के खिलाफ एक सामाजिक आंदोलन, ने युवाओं को लेस्बियन, गे, बिसेक्सुअल, और ट्रांसजेंडर  और महिलाओं के अधिकारों के प्रति सकारात्मक नैतिक दृष्टिकोण रखने में सक्षम बनाया।

दशकों से, लोग उस नैतिक दृष्टिकोण के पीछे के कारणों को जाने बिना ही विभिन्न नैतिक दृष्टिकोणों का पालन करते हैं। सोशल मीडिया एक प्रगतिशील समाज को सामने लाता है जो अंधविश्वास और तर्कहीन प्रथाओं से मुक्त है। सोशल मीडिया ने कलबुर्गी (कर्नाटक) में तर्कहीन प्रथाओं को उजागर किया, जहां सूर्य ग्रहण के दौरान बच्चों को जमीन से लेकर गर्दन तक दफन किया जाता है। माता-पिता का मानना है कि ऐसा करने से बच्चे चर्म रोगों से मुक्त होंगे और शारीरिक रूप से विकलांग नहीं होंगे। इस 21वीं सदी में पर्यावरण के विकास और संरक्षण और संरक्षण पर भारी बहस चल रही है। सोशल मीडिया युवा पीढ़ी को पर्यावरण के मुद्दों के प्रति सकारात्मक नैतिक दृष्टिकोण रखने में मदद करता है। उदाहरण - ग्रेटा थनबर्ग, एक जलवायु कार्यकर्ता ने जलवायु परिवर्तन के संबंध में सरकारी नीतियों के खिलाफ अपनी हड़ताल फैलाने के लिए इंस्टाग्राम का उपयोग किया।

जल्द ही दुनिया भर के युवा अपने समुदायों में इसी तरह के विरोध प्रदर्शनों में शामिल हो गए। मीडिया के साथ उनके साक्षात्कार ने, बदले में, उनके आंदोलन के बारे में अधिक सामग्री तैयार की। सोशल मीडिया वाद-विवाद के माध्यम से कई नैतिक मुद्दों पर चर्चा के लिए एक उपकरण के रूप में कार्य कर सकता है। दार्शनिक, विषय विशेषज्ञ समाज में मौजूद मुद्दों के बारे में अपनी राय दे सकते हैं इस प्रकार युवा नैतिक मुद्दों के सही या गलत पक्ष पर स्पष्टता प्राप्त कर सकते हैं। यह युवाओं को नैतिक दृष्टिकोण बनाने में मदद करता है। कई टीवी चैनलों ने परमाणु प्रसार के मुद्दों बनाम ईरान के परमाणु हथियार बनाने की घोषणा जैसे नैतिक मुद्दों पर बहस शुरू कर दी।

इन बहसों के माध्यम से, एक व्यक्ति जो परमाणु प्रसार के खिलाफ है, वह इस मुद्दे पर अपने नैतिक दृष्टिकोण को बढ़ाएगा।  भिन्न विचारों और विचारों के प्रति लोगों में सहिष्णुता को बढ़ावा देगा। सोशल मीडिया नेटवर्क का उपयोग करने वाले लोग अन्य धार्मिक विश्वासों और प्रथाओं के प्रति लचीले और सहिष्णु होने की अधिक संभावना रखते हैं।  सोशल मीडिया का अक्सर युवा लोगों की प्रेरणा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। सोशल मीडिया ने भी उन्हें मिली जानकारी तक पहुंचने की अनुमति दी

आमतौर पर परिवार, दोस्त युवाओं के नैतिक दृष्टिकोण को आकार देते हैं। लेकिन कई वर्ग इस अवसर से वंचित हैं। उदाहरण के लिए, लेस्बियन, गे, बाइसेक्सुअल, और ट्रांसजेंडर युवाओं के परिवार के सदस्यों के साथ ऑनलाइन मित्र होने की संभावना कम होती है और सोशल मीडिया साइटों से जुड़ने की अधिक संभावना होती है।

किशोर जो समाचार मीडिया के संपर्क में आते हैं और उनमें रुचि लेते हैं, उनकी जलवायु परिवर्तन जैसे प्रमुख सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों में रुचि होने की अधिक संभावना है। मीडिया उन्हें अपने समुदायों में नागरिकों के रूप में अधिक शामिल होने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है। किशोर सोशल मीडिया और अन्य मीडिया से महत्वपूर्ण स्वास्थ्य प्रचार संदेश भी प्राप्त कर सकते हैं। इसमें युवा अवसाद और आत्महत्या को रोकने, सकारात्मक, सम्मानजनक संबंधों को बढ़ावा देने, या स्वस्थ भोजन और जीवन शैली की आदतों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से संदेश शामिल हो सकते हैं।

टेलीविजन शो और फिल्मों में अच्छी गुणवत्ता वाली कहानियां किशोरों को कामुकता, रिश्ते, लिंग या नैतिकता जैसे पहचान के पहलुओं का पता लगाने में मदद कर सकती हैं - उदाहरण के लिए, बोहेमियन रैप्सोडी जैसी फिल्म में कामुकता का उपचार, या राइड लाइक ए गर्ल में लिंग, या नैतिकता में द गुड प्लेस जैसा टीवी शो। अपने बच्चे के साथ इन शो को देखना चर्चा का एक शानदार अवसर है। सहानुभूति और करुणा दिखाने के लिए एक मंच के रूप में। हमें केवल जागरूक उपयोगकर्ता बनने और स्वस्थ रहने की आवश्यकता है।

सोशल मीडिया वर्तमान समय में एक दोधारी तलवार है। युवाओं पर डिजिटल तकनीक के प्रभाव  वयस्क व्यवहार और भविष्य के समाजों के व्यवहार को आकार प्रदान करेंगे।  बिल गेट्स और स्टीव जॉब्स जैसे तकनीकी क्षेत्र के दिग्गजों ने अपने बच्चों की प्रौद्योगिकी तक पहुँच को गंभीरता से नियंत्रित रखा था।  प्रौद्योगिकियों के स्पष्ट लाभ और संभावित हानिकारक प्रभाव होते हैं। सोशल मीडिया के उपयोग में भी अति से बचने और उसका संतुलित उपयोग करने में ही समस्या का समाधान निहित हो सकता है।

About author             

सत्यवान 'सौरभ',

-  सत्यवान 'सौरभ',
रिसर्च स्कॉलर, कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार, आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,

333, परी वाटिका, कौशल्या भवन, बड़वा (सिवानी) भिवानी, हरियाणा – 127045

facebook -  https://www.facebook.com/saty.verma333

twitter-    https://twitter.com/SatyawanSaurabh

bolti zindagi साहित्य के लिए साहित्य को समर्पित बोलती ज़िंदगी e- Magazine To know more about me Go to Boltizindagi.com

0 Comments

Post a Comment

boltizindagi@gmail.com

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel