प्रेम हमेशा रहेगा- जितेन्द्र 'कबीर'

 प्रेम हमेशा रहेगा

प्रेम हमेशा रहेगा- जितेन्द्र 'कबीर'
मजबूरियां सांसारिक हैं हमारी
ख़त्म हो जाएंगी देह के साथ ही,
लेकिन प्रेम अमर है आत्मा की तरह
रहेगा तब तक जब तक है जीवन
इस ब्रह्माण्ड में कहीं पर भी,

सूख कर गिर चुके पेड़ के ठूंठ से
उग आएगा यह बिना किसी के
उगाए ही,
जहां नहीं पहुंचती इंसान की दृष्टि
खिलेगा फूल बनकर वहां
बेशक चार दिनों के लिए ही सही,

बचाए रखेगा यह अपना वजूद
भीषण गर्मी में रेगिस्तान का
मरुद्यान बनकर भी,
खोज लेगा संभावनाएं जीवन की
बर्फ से लदे सुदूर ध्रुवों पर कहीं,

फूट पड़ेगा किसी के लिए
मोह बनकर
कठोर से कठोर हृदयों में भी,
प्रलय के बाद पनपता है
जिस तरह सृष्टि में जीवन कहीं,

प्रेम के लिए ही हुआ है
सृष्टि का जन्म,
ताकतवर हों चाहे जितनी भी नफरतें 
प्रेम को कभी मिटा पाएंगी नहीं।

          जितेन्द्र 'कबीर'
साहित्यिक नाम - जितेन्द्र 'कबीर'
संप्रति- अध्यापक
पता - जितेन्द्र कुमार गांव नगोड़ी डाक घर साच तहसील व जिला चम्बा हिमाचल प्रदेश
संपर्क सूत्र - 7018558314

代写毕业论文 代写价格 代写论文 代写essay 留学生代写 留学生作业代写

learn more

visit this page

totojoker22 magnetic septum

www.huaykk.com
Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url