Gadbi ki dhundhali diwali laghukatha by Jayshree birmi

 गडबी की धुंधली दिवाली

Gadbi ki dhundhali diwali laghukatha by Jayshree birmi

  साल  में कई त्योहार आते हैं और हम भी खुशी खुशी मनातें हैं।लेकिन दिवाली तो सब से महत्व का त्यौहार हैं।उजाले का त्यौहार हैं,अंधेरे पर उजाले की जीत का पर्व हैं दिवाली।अच्छे कपड़े ,अच्छा खाना और मिठाईयां ही बच्चों की ख्वाहिश की सूची में होते हैं।उनके लिए पटाखे चलाना एक साहसी कार्य होता हैं।दिवाली बड़ों के लिए अलग मायने लेके आती हैं किंतु बच्चों का अपना ही खयाल हैं दिवाली के बारे में।

 लेकिन गड़बी(गीता) के लिए दिवाली कुछ भी ले कर नहीं आई थी। गड्बी को पता ही नहीं चला वह कब और कैसे गीता से गडबी बन गई।कुछ तो उसकी मां,कुछ तो उसके पड़ोसी और कुछ हद तक वह खुद जिम्मेवार थी अपने नाम को अपभ्रंश करने में।घर में दो समय का खाना उपलब्ध नहीं होता था तो त्यौहार मनाने की तो सोच भी नहीं आ सकती थी।उसने अपनी मां के साथ काम करना शुरू कर दिया था। ऑन  लाइन नौवीं कक्षा की  पढ़ाई करने के लिए उसके पास न तो मोबाइल था और न ही वाई फाई था।पढ़ाई छोड़, उसने सेठानीजी के घर  उसकी मां के काम में  हाथ बटाना  शुरू कर दिया था।सेठानी का घर भरा पड़ा था अच्छी चीजों से लेकिन कभी उसकी या उसकी मां की इच्छा नहीं होती थी कि कुछ उठा ले,चोरी करें।ईमानदार थी दोनों ही,गरीब थी लेकिन चोर नहीं थी वे।दिन रात काम कर दोनों को मुश्किल दो वक्त की रोटी का जुगाड हो उतना ही मिल पाता था।

और अब तो दिवाली भी आ रही थी किंतु उन्हें न तो अपनी जोपडीनुमा घर की सफाई करनी थी और न ही मिठाई बनानी या लानी थी।सेठजी के घर दिवाली की सफाई कर थक के चूर हो जाती थी दोनों,घर आके वही रूखी सूखी खा सो जाती थी दोनों,छोटे भाई को समझना मुश्किल तो था किंतु उसे भी समझा ही लेती थी दोनों।सेठानीजी के घर से काम करके निकली दोनों तो सेठानी ने उन्हें कुछ रूपिए बोनस में दिए और थोड़ी सी मिठाई भी दी।घर जाते हुए किसी का अधजला दिया रास्ते में पड़ा था तो गड़बी ने उठा लिया ।कुछ बिनफुटे पटाखे चुनके उसका भाई लाया था तो बस हो गया दिवाली का जुगाड।

 दूसरे दिन बड़ी दिवाली थी तो सुबह सुबह उठ सेठजी के घर काम करके जल्दी घर आ गई दोनों।शाम को जो लक्ष्मी जी की एक फोटो थी उनके जीर्ण मंदिर में उनकी पूजा कर प्रसाद में सेठजी ने दी हुई मिठाई का प्रसाद चढ़ाया,बाहर जो अधजला दिया था उसे पुन: जलाया  जिसे जलाना तो नहीं कह  सकते,सिर्फ टिमटिमा रहा था। उससे ही उसके भाई ने वो पटाखे चलाने की कोशिश की।कुछ तो फूटे ही नहीं और कुछ जरा सी आवाज कर बूझ गए।फिर भी उन गरीबों के चेहरे पर खुशी ही थी।चाहे दिवाली का दिया धुंधला ही सही लेकिन उनकी दिवाली की खुशी ज्यादा ही थी।


जयश्री बिरमी

अहमदाबाद

Cp हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध कवि एवं शायर चन्द्र प्रकाश गौतम (सी.पी. गौतम) का जन्म 13 अगस्त सन् 1995 को उत्तर प्रदेश के मीरजापुर जनपद के छीतकपुर गाँव में हुआ । इनकी प्रारम्भिक शिक्षा गाँव के ही प्राथमिक विद्यालय से शुरू हुई इन्होंने उच्च शिक्षा स्नातक की पढ़ाई काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से की तथा यहीं से हिन्दी साहित्य में परास्नातक की पढ़ाई भी की । स्नातक व परास्नातक की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की है। चन्द्र प्रकाश गौतम की हिन्दी साहित्य में विशेष रुचि है । इन्होंने कई महत्वपूर्ण कविताओं एवं आलोचनात्मक लेखों का सृजना किया है , जो देश के विभिन्न राज्यों के दैनिक समाचार पत्रों , पत्रिकाओं में प्रकाशित है साथ ही इनकी कुछ रचनाएं भारत के अलावा अमेरिका में भी प्रकाशित हुई हैं Know more about me

0 Comments

Post a Comment

boltizindagi@gmail.com

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel