Abhi to patjhad hai basant to ayegi

 ग़ज़ल

Abhi to patjhad hai basant to ayegi


कभी       तो         हमारी       याद       आएगी

आशमा   में    बादल    है   बरसात  तो  आयेगी


फूल        मुरझाते          है        भौंरे        नहीं 

अभी     पतझड़     है     बसंत    तो     आयेगी


तू चल तो    साथ    साथ      मैं       भी     चलू 

अभी    नफरत     कभी    प्यार   तो     आयेगी


इन    नटखट     नखरों    से   रिझाओ  न   तुम 

जो   बात     दिल    में    है   जुबां   पे   आयेगी

 

हां   जो   कह   न  सका  अब   कह    देता    हूं

रात  के    सफर     में    सुबह     तो     आयेगी

 

प्यार   है   शक्ति   प्यार   है  भक्ति     प्यार     है

श्रद्धा        प्यार               है                ज्योति 

खड़े दिवानो के लाइन में कभी तो नम्बरआयेगी


फूल         मुरझाते         है        भौंरे        नहीं 

अभी   पतझड़    है    बसंत     तो        आयेगी

                                      कवि सी.पी. गौतम

                                   मीरजापुर उत्तर प्रदेश


Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url