जीवन दरिया है - डॉ.इन्दु कुमारी

 जीवन दरिया है

Jeevan dariya hai by Dr. Indu kumari

जीवन  है एक दरिया

अविरल बहती जाए

सुख-दुख की बेलिया

बस सहती ही जाए

धैर्य  की    सीपियां

मोती   बनाता   है

संकट के थपेरों से

जूझती ही जाए रे

जीवन है संगम भी

मिलते-मिलाते  हैं

खुशियों  की  लड़ी

जीवन को सजाते हैं।

कभी आते हैं बसंत

पतझर भी आते हैं

बारिश की छमछम

नई राग सुनाते हैं

सुहानी होती शरद

ठंडी,एहसास दिलातीहै

सोच सकारात्मकता हो

मंजिल पर पहुँचाती  है।

 डॉ.इन्दु कुमारी
मधेपुरा बिहार

Cp हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध कवि एवं शायर चन्द्र प्रकाश गौतम (सी.पी. गौतम) का जन्म 13 अगस्त सन् 1995 को उत्तर प्रदेश के मीरजापुर जनपद के छीतकपुर गाँव में हुआ । इनकी प्रारम्भिक शिक्षा गाँव के ही प्राथमिक विद्यालय से शुरू हुई इन्होंने उच्च शिक्षा स्नातक की पढ़ाई काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से की तथा यहीं से हिन्दी साहित्य में परास्नातक की पढ़ाई भी की । स्नातक व परास्नातक की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की है। चन्द्र प्रकाश गौतम की हिन्दी साहित्य में विशेष रुचि है । इन्होंने कई महत्वपूर्ण कविताओं एवं आलोचनात्मक लेखों का सृजना किया है , जो देश के विभिन्न राज्यों के दैनिक समाचार पत्रों , पत्रिकाओं में प्रकाशित है साथ ही इनकी कुछ रचनाएं भारत के अलावा अमेरिका में भी प्रकाशित हुई हैं Know more about me

0 Comments

Post a Comment

boltizindagi@gmail.com

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel